साक्षरता का मतलब केवल पढ़ना और लिखना नहीं है; यह व्यक्तियों और राष्ट्र की पूरी क्षमता को अनलॉक करने की कुंजी है।

'बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ' जैसे अभियानों ने शिक्षा को बढ़ावा देने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है

साक्षरता ज्ञान का प्रतीक है, सशक्तिकरण का मार्ग है और सामाजिक परिवर्तन की शक्ति है।

भारत ज्ञान और प्रगति के प्रकाशस्तंभ के रूप में उभर सकता है, जहां हर नागरिक बिना किसी सीमा के पढ़, लिख और सपने देख सकता है।

साक्षरता सामाजिक परिवर्तन की शक्ति

विविधता और जटिलता की भूमि भारत ने विभिन्न क्षेत्रों में जबरदस्त प्रगति की है, फिर भी एक मुद्दा जो इसके विकासात्मक एजेंडे में सबसे आगे है वह है साक्षरता।